खेल

‘गोलगप्पा ब्वॉय’ को कोच ज्वाला ने तपाया, अब टीम इंडिया में एंट्री को तैयार

(सीधीबात न्यूज़ सर्विस)  ‘गोलगप्पा ब्वॉय’ यशस्वी जायसवाल ने क्रिकेट की दुनिया में अपने बल्ले से जो इतिहास गढ़ दिया वो लंबे वक्त तक याद किया जाएगा. वैसे क्रिकेट की दुनिया में रिकॉर्ड बनने और टूटने का सिलसिला तो चलता रहता है, लेकिन कुछ रिकॉर्ड्स बनाने वाले खिलाड़ी अध्याय लिखकर जाते हैं. शायद उसमें यशस्वी का भी नाम शामिल हो चुका है.

कौन है यशस्वी को परखने वाला शख्स?

कहा जाता है क्रिकेट में करियर बनाना कोई ‘खेल’ नहीं है, लेकिन किस्मत साथ दे और इरादा पक्का हो तो सब मुमकिन है. यूपी के भदोही जिले के रहने यशस्वी साल 2011 में एक बड़ा सपना संजोए मुंबई अपने चाचा के पास आए थे. उस वक्त चाचा की भी हैसियत नहीं थी मुंबई में क्रिकेट खिलाने की सोच सकें क्योंकि तंगी में वो भी थे और यशस्वी के घर वाले भी, लेकिन यशस्वी ठान चुके थे कि मुंबई आए हैं तो कुछ करना है.

ये भी पढ़ें- पानी पूरी बेचकर क्रिकेटर बना ये लड़का

मुंबई वाले चाचा का घर छोटा था तो शुरू में किसी तरह एक डेयरी शॉप में रहने की जगह बनी. फिर उन्होंने खुद के खर्च के लिए गोलगप्पे बेचने का काम शुरू किया, लेकिन यशस्वी जिस इरादे (क्रिकेट) से मुंबई आए थे, उससे तालमेल नहीं बन रहा था. उम्र भी ज्यादा नहीं थी, इसलिए साहस भी डगमगा रहा था और पैसों की कड़की पहले से थी.

इस बीच 2013 में मुंबई के आजाद मैदान में यशस्वी पर ऐसे शख्स की नजर पड़ी, जो उनकी तरह क्रिकेट खेलने मुंबई आया था. उस शख्स ने भी मुंबई में बहुत धक्के खाए थे, तंगी को करीब से देखा था. शायद यही वजह होगी कि उसे यशस्वी की परख सबसे अच्छे थी. ये शख्स कोई और नहीं यशस्वी के कोच ज्वाला सिंह हैं. ज्वाला सिंह की नर्सरी से ही पृथ्वी शॉ भी निकले हैं.

11111_100918092406_101819050712.jpgअंडर-19 भारतीय टीम से खेल चुके हैं यशस्वी

जिसने यशस्वी को तपाया, उसने भी देखे थे ऐसे हालात

ज्वाला सिंह ने aajtak.in से खास बातचीत में कहा कि 2013 में आजाद मैदान में नेट प्रैक्टिस के दौरान यशस्वी मुझे दिखा था. मैं उसकी बल्लेबाजी को देखकर पहली बार खुद हैराना था क्योंकि 11 साल का लड़का लिस्ट-A के गेंदबाजों को कॉन्फिडेंस के साथ खेल रहा था.

ज्वाला ने कहा, ‘इस दौरान मेरे एक दोस्त ने यशस्वी के बारे में बताया कि लड़का अच्छा है, लेकिन माली हालत इतनी खराब है कि आगे की राह कठिन है. फिर मैंने यशस्वी से खुद जाकर बात की और उसे मिलने के लिए अपने कैंप में बुलाया. लड़का जज्बाती था और वो मुझ से मिलने आया. जब मैं उसके हालात से रू-ब-रू हुआ तो मुझे अपने वक्त की याद आ गई. मैं भी यूपी के गोरखपुर शहर से जिद करके क्रिकेट खेलने के लिए 1995 में मुंबई में आया था.’

ज्वाला बताते हैं, ‘शुरू में थोड़े पैसे थे, तो एडजस्ट हो गया, लेकिन सालभर बाद ऐसी परेशानी आई कुछ दिनों तक मुझे टेंट में रात काटनी पड़ी. इस बीच एक परिचित ने अपने जिम में रहने की जगह दे दी. मैं स्कूल क्रिकेट में अच्छा कर रहा था तो मुझे स्कॉलरशिप मिलने लगी, जिससे तंगी थोड़ी कम हुई, लेकिन इंजरी और प्रॉपर गाइडेंस न मिलने की वजह से मेरे क्रिकेट का सफर बहुत लंबा नहीं रहा. विजय मर्चेंट, कूच विहार, सीके नायडू ट्रॉफी के दौरान ही मुझे इतनी इंजुरी हो गई की मेरे करियर पर ही ब्रेक लग गया. इसके बाद मैंने फिर कोचिंग देने का काम शुरू किया था.’

6 साल से कोच के साथ ही रहते हैं यशस्वी

ज्वाला सिंह ने बताया कि यशस्वी में टैलेंट है, लेकिन वो हालात से पिट रहा था, इसलिए मैं उसे 2014 अपने घर लेकर चला आया था. तभी से वो मेरे साथ है और मेरे घर का फैमिली मेंबर है. उसके माता-पिता गांव पर रहते हैं और मिलने-जुलने मुंबई आते रहते थे. ज्वाला सिंह ने बताया कि यशस्वी हाई टैंपरामेंट वाला बल्लेबाज है. वो 100 करने के बाद 200 रन करने वालों में से है, यही उसकी सबसे बड़ी खूबी है. मैं भी चाहते हूं कि वो ऐसा ही प्रदर्शन करते रहे और टीम इंडिया के लिए खेले.

बता दें कि 2014 में 12 साल की उम्र में यशस्वी ने  Giles Shield स्कूल मैच में अंजुमन इस्लाम हाई स्कूल (फोर्ट) की ओर से खेलते हुए न सिर्फ नाबाद 319 रन बनाए बल्कि उसने राजा शिवाजी विद्यामंदिर (दादर) के खिलाफ उस मैच में 99 रन देकर 13 विकेट भी चटकाए थे. इसी के बाद से यशस्वी सुर्खियों में आए थे.

क्यों फिर चर्चा में आए यशस्वी?

हाल ही में बेंगलुरु में झारखंड के खिलाफ मुंबई के उदीयमान बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल ने विजय हजारे ट्रॉफी (50 ओवरों का मुकाबला) में दोहरा शतक जमाया है. इसके साथ ही उन्होंने कई कीर्तिमान अपने नाम कर लिए. यशस्वी ने विजय हजारे ट्रॉफी के ग्रुप-ए के मैच में 203 रनों (154 गेंदों में) की दमदार पारी खेली थी. इससे पहले साउथ अफ्रीका के एलेन बैरो ने 1975 में 20 साल 273 दिनों की उम्र में लिस्ट-ए में दोहरा शतक (202*) जड़ा था.

लिस्ट-ए: सबसे कम उम्र में दोहरा शतक लगाने वाले खिलाड़ी

17 साल व 292 दिन, यशस्वी जायसवाल, मुंबई (2019)

20 साल 276 दिन, एलन बैरो, नटाल (1975)

21 साल 20 दिन, माइकल वॉन, गौटंग (2019)

21 साल 280 दिन, ट्रेविस हेड, दक्षिण ऑस्ट्रेलिया (2015)

21 साल 282 दिन, बेन डकेट, इंग्लिश लॉयन्स (2016)

विजय हजारे ट्रॉफी के टॉप-3 स्कोरर

1. संजू सैमसन (केरल): 212 रन, विरुद्ध गोवा (2019)

2. यशस्वी जासवाल (मुंबई): 203 रन, विरुद्ध झारखंड (2019)

3. कर्णवीर कौशल (उत्तराखंड) 202 रन, विरुद्ध सिक्किम (2018)

अंडर-19 भारतीय टीम में भी धूम मचा चुके हैं यशस्वी

17 साल का सलामी बल्लेबाज यशस्वी पहली बार तब सुर्खियों में आया, जब उसने इसी साल अगस्त में श्रीलंका दौरे के नाबाद 114 रनों की पारी खेली थी. जिसकी बदौलत अंडर-19 भारतीय टीम यूथ वनडे सीरीज में श्रीलंकाई टीम को 3-2 से मात देने में कामयाब हुई.

Source:-Aajtak

संबंधित पोस्ट

आमिर के संन्यास पर भड़के शोएब अख्तर, कहा- मैं कभी ऐसा नहीं करता

Ansar Aziz Nadwi

इस अफ्रीकी खिलाड़ी ने माना- भारत ने हमें मोहाली में बिल्कुल पस्त नहीं किया

Ansar Aziz Nadwi

मैनचेस्टर एयरपोर्ट पर हुआ वसीम अकरम का अपमान, ये थी वजह

Ansar Aziz Nadwi

अपना कमेंट्स दें

रिव्यु करें