खेल

बुमराह का टेस्ट से बाहर रहना विराट ब्रिगेड के लिए खतरे की घंटी तो नहीं?

 

(सीधीबात न्यूज़ सर्विस)  टीम इंडिया ने दो साल तक चलने वाली आईसीसी विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप की पहली ही सीरीज खेली थी कि उसके प्रमुख तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह अगली सीरीज से बाहर हो गए. 25 साल के बुमराह के साउथ अफ्रीका के खिलाफ तीन टेस्ट मैचों की सीरीज में नहीं होने से विराट ब्रिगेड को गहरा झटका लगा है.

  • बुमराह का टेस्ट से बाहर रहना विराट ब्रिगेड के लिए खतरे की घंटी तो नहीं?

    बीसीसीआई के मुताबिक, ‘बुमराह को पीठ के निचले हिस्से में हल्का फ्रैक्चर है और इसी कारण वह दक्षिण अफ्रीका के साथ होने वाली गांधी-मंडेला सीरीज से बाहर हो गए हैं. लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि बुमराह दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ विशाखापत्तनम में 2 अक्टूबर से शुरू होने वाली तीन टेस्ट मैचों की सीरीज के बाद पूरी तर ठीक हो ही जाएंगे. क्योंकि फ्रैक्चर ठीक होने में समय लगता है.

  • बुमराह का टेस्ट से बाहर रहना विराट ब्रिगेड के लिए खतरे की घंटी तो नहीं?

    बुसीसीआई की प्रेस विज्ञप्ति में कहा है कि बुमराह की इस चोट का पता रोजमर्रा की जांच में चला. वह फिलहाल एनसीए में अपनी चोट पर काम करेंगे और बीसीसीआई की मेडिकल टीम की निगरानी में रहेंगे. अखिल भारतीय सीनियर चयन समिति ने बुमराह के स्थान पर उमेश यादव को टीम में जगह दी है.

  • Advertisement

  • बुमराह का टेस्ट से बाहर रहना विराट ब्रिगेड के लिए खतरे की घंटी तो नहीं?

    बुमराह को साउथ अफ्रीका के खिलाफ टी-20 सीरीज से आराम दिया गया था, ताकि उन्हें टेस्ट के लिए फिट और तरोताजा रखा जा सके, लेकिन हुआ कुछ और. दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज के बाद भारत को अपने होम सीरीज में बांग्लादेश से खेलना है, जिसमें दो टेस्ट भी शामिल हैं. अगर बुमराह बांग्लादेश के खिलाफ नहीं खेल पाते हैं, तो वह अगले साल फरवरी-मार्च में ही टेस्ट क्रिकेट में वापसी कर पाएंगे, जब भारत न्यूजीलैंड का दौरा करेगा.

  • बुमराह का टेस्ट से बाहर रहना विराट ब्रिगेड के लिए खतरे की घंटी तो नहीं?

    इसके साथ ही बुमराह का भारत में पहला टेस्ट खेलने का इंतजार और बढ़ गया है. अब तक उन्होंने अपने सभी 12 टेस्ट मैच विदेशी धरती पर खेले हैं. बुमराह ने 12 टेस्ट मैचों में 62 विकेट झटके हैं. अपने पिछले दो टेस्ट मैचों में बुमराह ने 13 विकेट चटकाए, जिसमें दो 5 विकेट हॉल और एक हैट्रिक शामिल है. वह जिस तरह से बल्लेबाजों पर हावी होते हैं, उससे एंडी रॉबर्ट्स और कर्टली एम्ब्रोस जैसे दिग्गज भी उनकी तारीफ करने से नहीं रुकते.

  • बुमराह का टेस्ट से बाहर रहना विराट ब्रिगेड के लिए खतरे की घंटी तो नहीं?

    दूसरी तरफ उमेश यादव को चयनकर्ताओं का भरोसा जीतने के लिए एक और मौका मिला है. उमेश यादव ने आखिरी बार दिसंबर 2018 में टेस्ट मैच खेला था. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 4 टेस्ट मैचों की सीरीज में उन्होंने एक ही टेस्ट (पर्थ में दूसरा टेस्ट) खेला था और 2 विकेट निकाले थे.

  • बुमराह का टेस्ट से बाहर रहना विराट ब्रिगेड के लिए खतरे की घंटी तो नहीं?

    41 टेस्ट मैचों में 33.47 की औसत से 119 विकेट, उमेश यादव से जुड़ा ये आंकड़ा उतना प्रभावी नहीं है. लेकिन ये नहीं भूलना चाहिए कि भारत की धरती पर उन्होंने अपने आखिरी टेस्ट में कमाल की गेंदबाजी कर टीम इंडिया को 10 विकेट से जीत दिलाई थी. हैदराबाद में विंडीज के खिलाफ उस टेस्ट में उन्होंने कुल 10 विकेट झटके थे और मैन ऑफ द मैच रहे.

  • बुमराह का टेस्ट से बाहर रहना विराट ब्रिगेड के लिए खतरे की घंटी तो नहीं?

    अब उमेश को अपनी काबिलियत दिखाने का मौका मिलता है कि नहीं, यह समय ही बताएगा. साउथ अफ्रीका के खिलाफ ईशांत शर्मा और मोहम्मद शमी अपने हालिया प्रदर्शन के कारण प्लेइंग इलेवन में अपनी जगह लगभग निश्चित कर चुके हैं, अब देखना है कि भारतीय प्रबंधन तीन तेज गेंदबाजों के साथ टीम उतरेगा या स्पिन आक्रमण को तवज्जो देगा. अगर पिच स्पिनरों के लिए मददगार होती है, तो भारत रविचंद्रन अश्विन, रवींद्र जडेजा और कुलदीप यादव तीनों को खेलने का विकल्प चुन सकता है.

    Source:-Aajtak

 

संबंधित पोस्ट

IND vs SA: पुणे में सीरीज सील कर वर्ल्ड रिकॉर्ड बना देगी विराट ब्रिगेड

Ansar Aziz Nadwi

India vs West Indies 3rd T20I Live Score: मैदान गीला होने के कारण टॉस में देरी

Ansar Aziz Nadwi

भारतीय धावक हिमा दास ने एक महीने में जीता पांचवां स्वर्ण पदक

Ansar Aziz Nadwi

अपना कमेंट्स दें

रिव्यु करें