अंतरराष्ट्रीय

PM मोदी ने की ‘वॉर एंड पीस’ के लेखक टॉलस्टॉय और महात्मा गांधी की तारीफ

(सीधीबात न्यूज़ सर्विस)  एक हफ्ते पहले जिस लेखक के नाम और उसकी किताब पर भारत में अदालत से सड़क तक बवाल मचा हुआ था, गुरुवार को उसी लेखक का जिक्र प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रूस के व्लादिवोस्तोक में किया. ‘वॉर एंड पीस’ के लेखक और रूसी शांतिवादी लियो टॉलस्टॉय का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने उनमें और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी में समानताएं बताईं.

दरअसल, गुरुवार को व्लादिवोस्तोक ईस्टर्न इकॉनोमिक फोरम (EEF) में बतौर मुख्य अतिथि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब संबोधन दिया तो उन्होंने कहा, ‘इस साल पूरा विश्व महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मना रहा है. टॉलस्टॉय और गांधीजी ने एक दूसरे पर अमिट प्रभाव छोड़ा था. आइए भारत और रूस इस साझा प्रेरणा को हम और भी मजबूत करें.’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में भारत और रूस की पुरानी दोस्ती, आने वाले संबंधों पर चर्चा की.

PMO India

@PMOIndia

Let us deepen the bond between India and Russia even further, says PM @narendramodi.

View image on Twitter
252 people are talking about this

भारत में क्यों हुआ था विवाद?

दरअसल, बीते दिनों रूसी लेखक लियो टॉलस्टॉय की किताब ‘वॉर एंड पीस’ भारत में सुर्खियों रही. भीमा कोरेगांव हिंसा मामले के आरोपी वेरनॉन गोंजाल्विस की जमानत याचिका पर सुनवाई के दौरान इस किताब का नाम आया. हालांकि, बॉम्बे हाईकोर्ट ने सुनवाई के दौरान जिस किताब का जिक्र किया था वह थी ‘वॉर एंड पीस इन जंगलमहल: पीपुल, स्टेट एंड माओइस्ट’, जिसे विश्वजीत रॉय ने लिखा था.

लेकिन इस किताब के चक्कर में लियो टॉलस्टॉय की वॉर एंड पीस चर्चा में आ गई और सोशल मीडिया पर इसको लेकर तीखी बहस होने लगी. सुनवाई के दौरान जज ने वेरनॉन गोंजाल्विस से पूछा था कि आपके पास ‘वॉर एंड पीस इन जंगलमहल’ क्यों है? जिसपर ये विवाद छिड़ा था.

इसे भी पढ़ें… वह एक किताब जिसने बदल दी महात्मा गांधी की जिंदगी

कौन थे लियो टॉलस्टॉय?

आपको बता दें कि क्रीमिया युद्ध में हिस्सा ले चुके रूसी शांतिवादि लियो टॉल्सटॉय का हिंसा और युद्ध से मोहभंग हो गया था. जिसके बाद उन्होंने अहिंसा की अलख जगाई और उनकी गिनती 19वीं-20वीं सदी के सबसे बड़े महान शांतिवादी में होने लगी.

लियो टॉलस्टॉय की मशहूर किताबों में ‘वॉर एंड पीस’, एन्ना कारेनिना, चाइल्डहुड, बॉयहुड आदि जैसी बड़ी किताबें हैं.

Source:-Aajtak

संबंधित पोस्ट

‘ब्लैक डे’ मना रहे इमरान ने अपना टि्वटर अकाउंट किया काला

Ansar Aziz Nadwi

रिजर्व बैंक ने रेपो दर घटाई, वाहन, आवास लोन सस्ते हो सकते हैं

Ansar Aziz Nadwi

कश्मीर मुद्दे पर कुछ इस तरह पीएम मोदी के साथ नजर आए ट्रंप, देखें बॉन्डिंग

Ansar Aziz Nadwi

अपना कमेंट्स दें

रिव्यु करें