जुर्म

जाकिर नाईक के समर्थक ने वकील को सिर कलम की दी धमकी, गिरफ्तार

(सीधीबात न्यूज़ सर्विस)  मलेशिया पुलिस ने विवादित धर्म गुरु जाकिर नाईक के एक समर्थक को गिरफ्तार किया है. स्‍थानीय मीडिया की मानें तो जाकिर नाईक के समर्थक ने सांसद लिम किट सियांग के राजनीतिक सचिव और वकील जोहान का सिर कलम करने की धमकी दी थी. जोहान को यह धमकी ऐसे समय में मिली है, जब हाल ही में उन्‍होंने मलेशिया सरकार को जाकिर नाईक की स्थायी निवास दर्जा वापस लेने की सलाह दी थी.

नाईक की स्थायी निवास दर्जा पर खतरा

दरअसल, भारत से भागकर मलेशिया में शरण लिए जाकिर नाईक की वजह से स्‍थानीय सरकार दबाव में है. यही वजह है कि हाल ही में मलेशिया के पीएम महातिर मोहम्मद की अध्यक्षता वाली कैबिनेट में उसके स्थायी निवास का दर्जा वापस लेने पर विचार किया गया था. हालांकि अभी इसपर कोई आधिकारिक फैसला नहीं आया है. बता दें कि जाकिर नाईक ने अपने एक टीवी शो में अल्पसंख्यक हिंदुओं और चीनी नागरिकों को लेकर आपत्तिजनक बयान दिए, जिसके बाद उससे पुलिस ने सात घंटे पूछताछ भी की है. इस घटना के बाद जाकिर नाईक को देश से निकालने की मांग तेज हो गई है.

ANI

@ANI

Police are believed to have caught the man who threatened to decapitate Syahredzan Johan, a civil liberties lawyer & the political secretary to Lim Kit Siang, after Johan suggested the Malaysian Govt withdraw Malaysian Permanent Residency of Zakir Naik: Malaysian Media https://twitter.com/ANI/status/1162670201378357249 

ANI

@ANI

Malaysia Human Resources Minister M Kulasegaran has told Zakir Naik (file pic) to “go ahead & file his defamation lawsuit”, after Naik who is under investigation for making racially sensitive remarks demanded an apology from Kulasegaran yesterday: Malaysian Media

View image on Twitter
73 people are talking about this

मंत्री और जाकिर नाईक आमने-सामने

इस कैबिनेट मीटिंग में मलेशिया के मानव संसाधन मंत्री एम.कुलासेगरन ने जाकिर नाईक को देश से निकालने की मांग की है. मंत्री ने कहा, ‘जाकिर नाईक एक बाहरी आदमी है, एक भगोड़ा है और उसे मलेशियाई इतिहास की बहुत कम जानकारी है, इसलिए उसे स्थानीय लोगों को नीचा दिखाने जैसा विशेषाधिकार नहीं दिया जाना चाहिए.’ मंत्री कुलासेगरन के मुताबिक नाईक पर एक्शन होना चाहिए. कुलासेगरन के इस बयान से बौखलाए जाकिर नाईक ने माफी की मांग की है.

हालांकि मंत्री कुलासेगरन ने जाकिर से स्पष्ट कर दिया है कि अगर वह चाहे तो मेरे खिलाफ मानहानि का केस कर सकता है, लेकिन मैं माफी नहीं मांगूगा. बता दें कि जाकिर के खिलाफ भारत में सांप्रदायिक सौहार्द को बिगाड़ने और गैरकानूनी गतिविधियां चलाने को लेकर जांच चल रही है.

Source:-Aajtak

संबंधित पोस्ट

सुप्रीम कोर्ट की केंद्र को फटकार, कोई देश अपने लोगों को मरने के लिए गैस चैंबर में नहीं भेजता

Ansar Aziz Nadwi

पुलिस-वकील संघर्ष: दिल्ली पुलिस ने साथियों पर हमले के ख़िलाफ़ प्रदर्शन किया

Ansar Aziz Nadwi

फ़ारूक़ अब्दुल्ला के पास क़ानून व्यवस्था की समस्या खड़ी करने की ज़बरदस्त क्षमता: पीएसए ऑर्डर

Ansar Aziz Nadwi

अपना कमेंट्स दें

रिव्यु करें