नेशनल न्यूज़

असमः बीफ पर दो साल पुरानी पोस्ट को लेकर छात्रा के ख़िलाफ़ मामला दर्ज

गुवाहाटीः (सीधीबात न्यूज़ सर्विस)  असम पुलिस ने लगभग दो साल पुराने फेसबुक पोस्ट मामले में गुवाहाटी यूनिवर्सिटी की छात्रा के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, छात्रा ने लगभग दो साल पहले कथित तौर पर बीफ को लेकर एक फेसबुक पोस्ट की थी, हालांकि छात्रा ने तुरंत ही पोस्ट डिलीट भी कर दी थी.

छात्रा रेहाना सुल्ताना (28) का कहना है कि उसकी पोस्ट को गलत संदर्भ में लिया गया.

गुवाहाटी पश्चिम के डीसीपी के.के चौधरी ने कहा, ‘हमने छात्रा के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है. यह पुरानी फेसबुक पोस्ट को लेकर है लेकिन इस पोस्ट के दोबारा चर्चा में आने के बाद यह संज्ञान लिया गया है.’

छात्रा के खिलाफ आईपीसी की धारा 153ए और आईटी अधिनियम की धारा 67 के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है.

दरअसल, सुल्ताना ने जून 2017 में यह फेसबुक पोस्ट असम भाषा में लिखी थी. इस पोस्ट में कहा गया, ‘आज मैं बीफ खाकर पाकिस्तान की खुशी में शामिल हुई. मैंने अपनी पसंद का खाना खाया है. बीफ शब्द पढ़कर कृपया किसी तरह की साजिश शुरू मत कीजिएगा और अपना फितरत जाहिर मत कीजिएगा.’

सुल्ताना ने कहा, ‘इस बात को लेकर विवाद है कि मैंने बकरीद को यह पोस्ट लिखी लेकिन मैंने इसे लगभग दो साल पहले जून 2017 में लिखा था. लोगों द्वारा इसे गलत समझे जाने और मुझे निशाना बनाने के बाद मैंने इस पोस्ट को तुरंत डिलीट भी कर दिया था. 19 जून 2017 को मैंने एक स्पष्टीकरण भी लिखा था कि मेरी व्यंग्यपूर्ण पोस्ट को गलत समझा गया.’

यह पूछे जाने पर कि उन्होंने इस पोस्ट को क्यों लिखा? इस पर सुल्ताना ने कहा, ‘भारत-पाकिस्तान के बीच क्रिकेट मैच था और भारत ने बहुत खराब खेला था. मैंने विराट कोहली के आउट होने और भारत के मैच हारने पर अपनी निराशा जाहिर करते हुए यह व्यंग्यपूर्ण पोस्ट लिखी थी. उस समय देशभर में बीफ खाने और बीफ खाने की वजह से लोगों पर हमले की खबरों को लेकर विवाद हो रहा था. मैंने उसी तरह से पोस्ट लिखा था लेकिन पता नहीं कि उस पोस्ट को किस तरह गलत संदर्भ में लिया गया, जिससे विवाद खड़ा हुआ और मेरे खिलाफ मामला दर्ज किया गया.’

Source:-Thewire

संबंधित पोस्ट

आधार संशोधन विधेयक राज्यसभा से पारित, विपक्ष ने डेटा सुरक्षा को लेकर चिंता जताई

Ansar Aziz Nadwi

सरकार को बिना मुकदमे के किसी को आतंकवादी घोषित करने का अधिकार देना ख़तरनाक है

Ansar Aziz Nadwi

हैदराबाद के निज़ामों की संपत्ति पर पाकिस्तान के दावे को ब्रिटिश अदालत ने ख़ारिज किया

Ansar Aziz Nadwi

अपना कमेंट्स दें

रिव्यु करें