जुर्म

8 साल पहले आज ही के दिन दहल गई थी मुंबई, 3 धमाको में गई थी 19 की जानें

(सीधीबात न्यूज़ सर्विस)  मायानगरी मुंबई. भागती दौड़ती मुंबई. लोगों के सपनों की मुंबई. इसी मुंबई को आतंकियों की काली नजर लगती रही है. आज से 8 साल पहले भी आतंकवादियों ने एक के बाद एक तीन धमाके कर देश की आर्थिक राजधानी मुंबई को दहला दिया था. उन तीन धमाकों में 19 लोगों की जान चली गई थी जबकि करीब 150 लोग घायल हो गए थे.

13 जुलाई 2011, शाम 6 बजकर 54 मिनट

हमेशा की तरह उस दिन भी मुंबई दौड़ रही थी. सड़कों पर भीड़ थी. हर तरफ गाड़ियों का शोर था. लोग शाम के वक्त अपने घरों को लौट रहे थे. किसी को इस बात का अंदाजा भी नहीं था कि कुछ ही पलों में ये सपनों का शहर खौफ की जद में आ जाएगा. मगर साजिश कुछ ऐसी ही थी कि जैसे ही शाम के वक्त घड़ी सुई 6 बजकर 54 मिनट पहुंची. मुंबई के एक इलाके में पहला धमाका हुआ. वो इलाका था दक्षिणी मुंबई का झवेरी बाजार. बम एक मारुति एस्टीम कार में लगाया गया था.

13 जुलाई 2011, शाम 6 बजकर 55 मिनट

अभी लोग वहां संभले भी नहीं थे. कुछ समझे भी नहीं थे कि मुंबई के ओपेरा हाउस के पास, चर्नी रोड पर 6 बजकर 55 मिनट पर एक जोरदार धमाका हुआ. उस वक्त बारिश का मौसम था, लिहाजा बम एक छतरी में लगाया गया था. इन दोनों धमाकों से शहर में हड़कंप मच गया. अफरा तफरी का माहौल था.

13 जुलाई 2011, शाम 7 बजकर 5 मिनट

लोग समझने की कोशिश कर रहे थे कि आखिर ये हुआ क्या है. तभी 7 बजकर 5 मिनट पर दादर क्षेत्र में बस स्टैंड के बिजली पोल पर लटकाए गए बम में विस्फोट हुआ. हर तरफ धूल और धुएं का गुबार था. तीनों जगहों पर मुर्दा जिस्मों के टुकड़े पड़े थे. किसी के हाथ कहीं थे, तो किसी पांव. कोई घायल दर्द कराह रहा था, तो कोई तड़प रहा था.

19 मौत, करीब 150 लोग हुए थे घायल

तीनों जगहों पर खौफनाक मंजर था. इन तीनों धमाकों में 19 लोगों की जान चली गई थी और 150 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे. सभी घायलों को नजदीकी अस्पतालों में भर्ती कराया गया था. अधिकांश घायलों को मुंबई जेजे अस्पताल, सेंट जॉर्ज अस्पताल, हरिकिसानदास अस्पताल और जीटी अस्पताल ले जाया गया था.

फोन लाइन, संचार माध्यम हो गए थे ठप्प

इन तीन सीरियल धमाकों के बाद मुंबई में कुछ घंटों के लिए फोन लाइन और संचार माध्यम ठप्प हो गए थे. दिल्ली, चेन्नई, हैदराबाद और बेंगलुरु जैसे अन्य महानगरों में भी हाई अलर्ट जारी किया गया था. धमाकों के तुरंत बाद मुंबई पुलिस ने एक एसएमएस लोगों को भेजा था जिसमें लोगों से सावधान रहने और घर के अंदर रहने की अपील की गई थी.

11 जुलाई 2006 को भी हुए थे सीरियल ब्लास्ट

इससे पहले भी साल 2006 में 11 जुलाई को मुंबई की लोकल को आतंकियों ने निशाना बनाया था. सात में मिनट में सात धमाके. जी हां, उस दिन जैसे ही घड़ी में शाम के 6 बजकर 20 मिनट हुए थे. तभी अचानक लोगों से भरे एक स्टेशन पर जोर का धमाका हुआ. वो स्टेशन था खार रोड और बांद्रा स्टेशन. जहां पर हजारों का हुजूम लोकल ट्रेन पकड़ने के लिए खड़ा था. लेकिन उन लोगों को पता नहीं था कि जैसे जैसे घड़ी की सुई आगे की तरफ बढ़ रही है, वैसे वैसे लोगों की जिंदगी मौत की अंधेरी खाई की तरफ बढ़ रही है. बस कुछ और मिनट बीते और उसके साथ शुरू हुआ धमाकों का सिलसिला. कुछ लोकल रेलगाड़ियों में एक के बाद एक कई बम धमाके हुए और घर जाने के लिए स्टेशन पर खड़े लोगों में से करीब 189 लोग दुनिया से हमेशा के लिए रुखसत हो गए. जबकि करीब 900 लोग घायल हो गए थे.

मुंबई लोकल में 11 जुलाई 2006 को हुए सीरियल बम ब्लास्ट के मामले में मकोका कोर्ट ने 9 साल बाद 12 आरोपियों को दोषी करार दिया था. जबकि इस मामले 13 आरोपी गिरफ्तार किए गए थे. इसी कोर्ट ने इन सभी के खिलाफ 6 अगस्त 2007 को आरोप तय किए थे. सभी आरोपियों पर आतंकी हमले की साजिश रचने और राष्ट्र के खिलाफ युद्ध छेड़ने जैसे आरोप तय किए गए थे. फैसले के वक्त सभी आरोपी कोर्ट में मौजूद थे. एटीएस ने इन सभी को 2006 में 20 जुलाई से 3 अक्टूबर के बीच गिरफ्तार किया था. चार्जशीट 30 आरोपियों के खिलाफ दर्ज की गई थी. इनमें 13 पाकिस्तानी और 17 भारतीय शामिल थे.

Source:-Aajtak

संबंधित पोस्ट

4 बीव‍ियों वाले ससुर ने बहू का क‍िया रेप, ऐसे बनाया हवस का शिकार

Ansar Aziz Nadwi

रोहित शेखर मौत मामले में तैयार चार्जशीट पर कोर्ट आज करेगी विचार

Ansar Aziz Nadwi

कश्मीर में शांति के दावों के बीच पैलेट से घायल होने वालों की बढ़ती संख्या

Ansar Aziz Nadwi

अपना कमेंट्स दें

रिव्यु करें